नए साल में ब्लोगर्स के लिए कुछ गुरु मन्त्र


इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड के बाद ये पोस्ट मास्टर्स टैक के पाठकों के लिए।
डियर ब्लोगर्स दोस्तों ,ब्लॉग जगत में कई ऐसी छोटी छोटी बातें होती हैं जिनका ख़ास ख्याल रखना चाहिए। इनमे कोताही कई बार जग हंसाई बन जाती है। तो कई बार किसी के दिल दुखाने का जरिया। ये मेरा पर्सनल तजर्बा रहा है। जो मैंने इस ब्लॉग जगत से ही सीखा। आप लोगों तक इसलिए पहुंचा रहा हूँ ताकि आप भी एक ब्लोगर की हैसियत से इसका फायदा उठा सकें। जो पुराने ब्लोगर हैं वो इन टिप्स से काफी सहमत होंगे। आइये स्टेप बाय स्टेप पढ़ते हैं। 

1. ब्लोगर का पाठकों से सीधा जुडाव। 
आज के दौर में ये एक गुरु मन्त्र है ,इसकी एक मिसाल आपको देता हूँ। आपको पता है की आज कल बॉलीवुड फिल्मे काफी हिट हो रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह ये है की बॉलीवुड एक्टर्स और ऐक्ट्रेस प्रशंसकों से सीधे जुड़े हुए हैं। जबकि पहले ऐसा नही होता था। और सोशल वेबसाइटस का जमकर फायदा उठा रहे हैं। अपने प्रशंसकों से सीधा सम्पर्क ही इनकी ज्यादातर फिल्मो को हिट और सुपर हिट बना रहा है। इसी तरह ब्लोगर्स भी अपने पाठकों से सीधे जुड़ेंगे तो उनकी ब्लोग्स का ट्राफिक क्यूँ नही बढेगा। आप भी अपने पाठकों से लगातार सम्पर्क में रहें। उनकी खैर खबर रखें। जरुरतन उन्हें ईमेल वगैरा करते रहें। अगर बीमार हों तो हाल चाल पूछ लें। इससे वो आपको अपने काफी करीब समझेंगे। उनके हर ईमेल का जवाब दें।

2. ईमेल्स का जवाब देना। 
कोई पाठक आपको ईमेल करता है तो उसे पूरी उम्मीद होती है की आप उसका जवाब देंगे ,ऐसे में आपका उनके ईमेल का जवाब ना देना उनको आपसे और आपकी ब्लोग्स से दूर कर देता है। ख़ास कर तकनिकी ब्लोगर्स से पाठक हमेशां कुछ ना कुछ पूछते ही रहते हैं। ऐसे में उनका भी फर्ज़ बनता है की वो उनकी प्रोब्लम्स का हल निकालें। नही आता तो मना कर दें ,लेकिन जवाबी ईमेल तो करें। बिलकुल ही रिप्लाय ना देने से कई बार उनका दिल दुःख जाता है और इन्हें पता भी नही चलता। नतीजा ये निकलता है की पहले वो इनके ब्लॉग को शौक से पढता था ,आजकल उसने आना ही बंद कर दिया। इसलिए हर पाठक के ईमेल का जवाब देना ब्लोगर का अख्लाकी फर्ज़ बनता है। हाँ अगर किसी ने कोई अमानवीय सवाल पूछा तो बेशक जवाब ना दें। लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता है। कोशिश ये करनी चाहिए की हर एक ईमेल का जवाब जरुर दें। 

3. कमेंट्स का जवाब देना। 
मैंने कई लोगों को देखा है की वो अपने ब्लॉग पर खुद भी कमेंट्स करते रहते हैं। जो की मेरी नज़र में बहुत अच्छा है। वो इसलिए की कई बार मै किसी ब्लॉग पर कमेन्ट करके जब दुबारा वहां गया तो देखा मेरे कमेन्ट के निचे ब्लोगर ने जवाब दिया था। जिसे देख कर मुझे बड़ी ख़ुशी हुई। और ख्याल आया की ये कितने भले लोग हैं जो अपने पाठकों को इतना प्यार देते हैं। इसी तरह कई बार हम किसी ब्लॉग पर कमेंट्स करते हैं तो उसके कुछ देर बाद ही हमे उस कमेन्ट का जवाब ईमेल द्वारा भी मिलता है। ये भी दिल खुश करने का शोर्टकट है। इससे पाठक हमेशां उस ब्लॉग से जुड़े रहते हैं। हाँ अगर समय की कमी है तो बात अलग है। उसका तो कोई हल नही। लेकिन हर कमेन्ट का जवाब देना चाहिए। इससे लोगों को बड़ी ख़ुशी मिलती है। मेरा भी दिल चाहता है की हर कमेन्ट का जवाब दिया जाये। लेकिन परदेश और समय की कमी ऐसा करने नही देते। 

4. गैर जरुरी कमेंट्स करना।
कई बार पोस्ट का सब्जेक्ट पूरब होता है और कमेन्ट का पश्चिम। यानि सब्जेक्ट से हटकर कई लोग कमेंट्स कर जाते हैं। जो की बहुत गलत है। शुरू में मेरी भी तवज्जोह नही थी ,लेकिन जब महसूस किया तो इससे परहेज करना शुरू कर दिया। जैसी पोस्ट हो कमेंट्स वैसे ही करने चाहिए। ताकि जिसकी पोस्ट है उसे ये ना लगे की गैर जरुरी कमेंट्स हैं। और अगर वो उन कमेंट्स को डिलेट कर दे तो बेचारे की खैर नही। उसे बुरा भला कहना शुरू कर दिया जाता है। इसलिए इस बात का ख़ास ख्याल रखना चाहिए। ऐसे गैर जरुरी कमेंट्स नही करने चाहिए की दुसरे पाठक भी उन कमेंट्स को देखें तो उनका मजाक उड़ायें।

5. अपनी पोस्ट का निमन्त्रण भेजना। 
आओ मेरी पोस्ट पढो ,आओ मेरी पोस्ट पढो करके जबरदस्ती लोगों को अपनी पोस्ट्स पढने के लिए बुलाना भी गैर अख्लाकी काम है। कई लोग ईमेल करके पोस्ट की निमन्त्रण भेजते हैं। तो कई किसी की पोस्ट्स पर जाकर सब्जेक्ट से हटकर अपनी पोस्ट का निमन्त्रण पत्र चिपका देते हैं। जो की देखने में भी अच्छा नही लगता। अगर किसी को अपनी पोस्ट्स पर बुलाना ही है तो इसका सबसे बेस्ट तरीका ये है की आप जहाँ भी कमेंट्स करें वहां पर अपने ब्लॉग का लिंक छोड़ दें। लोग वो लिंक पाकर खुद बा खुद आपके ब्लोग्स पर आ जायेंगे। या फिर गूगल प्लस पर शेयर करें ताकि आपके गूगल प्लस मित्रों को खुद बा खुद ईमेल पहुँच जाये। और वो आपके पोस्ट्स पर आ सकें। या फेसबुक और दूसरी सोशल वेबसाइटस पर पोस्ट का लिंक शेयर करें वहां से भी आपके पाठक जरुर आयेंगे।या आप कुछ ना करें सिर्फ दुसरे ब्लोग्स पर कमेंट्स ही करते रहें लोग खुद बा खुद आपके बारे में जानने के इच्छुक होंगे और खुद ही आपके ब्लोग्स पर पहुँच जायेंगे। 

6. ब्लॉग का स्पेम चैक करते रहना। 
ये एक ऐसा काम है ना की इससे कभी भी गाफिल नही होना चाहिए। आपमें से कई लोगों के साथ ऐसा हुआ होगा की कोई आपके पोस्ट पर कमेन्ट करके गया और जब वो दुबारा वहां आया तो उसे अपने कमेन्ट नज़र नही आये। तो उसने सोचा की ब्लोगर महोदय ने इन्हें डिलेट कर दिया है। हालाँकि होता ये है की वो कमेंट्स स्पेम में चले जाते हैं। इसलिए ब्लॉग के स्पेम को तो दिन में कई बार चैक करना चाहिए। कोई आपके ब्लॉग पर बड़े अरमान से कमेंट्स करता है और वो भी स्पेम में चले जाएँ तो उसे दुःख होता है। उसे शायद ये पता नही होता की कमेंट्स स्पेम में चले गये। और कुछ और समझ कर ब्लॉग पर आना ही बंद कर देता है। इसलिए इस मामले में काफी एहतियात करनी चाहिए।

7. अपने ब्लॉग पर अपने पसंदीदा ब्लोग्स की सूची लगाना। 
ये एक ऐसा काम है जिससे आप लोगों के दिल जीत सकते हैं। हर कोई ब्लोगर ये चाहता है की उसके ब्लॉग का प्रचार हो। ऐसे में दुसरे ब्लोग्स की अपडेट्स अपने ब्लॉग पर लगाना काफी फायदेमंद होता है। इससे कई ब्लोगर्स आपके साथ जुड़े रहते हैं। मेरे ख्याल से अपने ब्लॉग पर उन ब्लोग्स की सूची लगानी चाहिए  जिन्हें आप नियमित विजिट करना पसंद करते हैं। और वहां कमेंट्स वगैरा करना पसंद करते हैं। इससे आपको भी सहूलत मिलेगी ,की आप अपने ब्लॉग से ही दुसरे ब्लोग्स पर जा सकेंगे ,और उन ब्लोग्स का भी प्रचार होगा। यहाँ एक बात का ख्याल रखें की जो कोई भी आपके ब्लॉग का अपडेट्स अपने ब्लॉग पर लगाता है ,यानि आपके ब्लॉग को अपने पसंदीदा ब्लोग्स की सूची में शामिल करता है तो आपको भी उनके ब्लोग्स का अपडेट्स जरुर लगाना चाहिए। ताकि उनका भी दिल खुश हो।और उनके ब्लोग्स का प्रचार भी हो। अपने ब्लोग्स पर पसंदीदा ब्लोग्स की सूची लगाने का रुझान अभी काफी कम है। लेकिन इसके जो फायदे हैं ,उसका आपको ये लगाने के बाद में अंदाज़ा जरुर होगा। इसलिए हमेशां एक दुसरे से कंधे से कंधा मिलाकर चलने में ही फायदा है। इस तरह ब्लॉग जगत में आपको काफी इज्जत मिलेगी। और लोग आपके साथ जुड़ना पसंद करेंगे। 

8. पोस्ट्स कम कमेंट्स ज्यादा। 
आपने कई बार देखा होगा की हम कई ब्लोग्स पर जाते हैं तो कुछ लोगों के कमेंट्स हर ब्लोग्स पर मिल ही जाते हैं। मेरी नज़र में ये लोग काफी महान हैं। जो दूसरों की हौंसला अफजाई करते रहते हैं। मैंने अक्सर देखा है की इनकी पोस्ट्स इतनी नही होती जितने इनके कमेंट्स आपको मिल जायेंगे। ऐसे लोगों से बहुत ज्यादा लोग आकर्षित होते हैं। इनके बारे में जानने के इच्छुक होते हैं। इस तरह कई कई लोग इनके ब्लोग्स पर भी पहुँचते हैं। और इनकी हर हर पोस्ट्स पर कई कई कमेंट्स करते हैं। शायद इसलिए की जिस तरह ये लोग दूसरों की हौंसला अफजाई के लिए कमेंट्स करते हैं उसी तरह लोग भी इनकी हौंसला अफजाई करने पहुँच ही जाते हैं। ये बात हमेशां याद रखिये की जो भी ब्लोगर आपके ब्लॉग पर कमेंट्स करते हैं वो आपसे भी कमेंट्स की उम्मीद तो रखते ही होंगे। इसलिए हर उस कमेन्ट करने वाले की ब्लॉग पर भी कमेंट्स करने चाहिए। ताकि वो आपसे जुड़े रहें। और आपकी हर हर पोस्ट्स पर खुद बा खुद पहुंचना पसंद करें। एक दूसरे की हौंसला अफजाई करते हुए ही ब्लॉग जगत में आप दिलों पर राज कर सकेंगे। लेकिन इसमें भी ये ख्याल जरुर रखें की कमेंट्स ऐसे ना हों की उस ब्लोगर को रस्मी लगे। और सब्जेक्ट से हटकर भी ना हों। कमेंट्स ऐसे हों की पढने वाले को लगे की उसके लिए ही ख़ास लिखा गया है।

9. कमेंट्स के लिए ना लिखें। 
अगर आप सिर्फ कमेंट्स पाने के लिए ही लिखेंगे तो आप जल्द ही हिम्मत हार जायेंगे और ब्लोगिंग छोड़ बैठेंगे। हमेशां लेखनी पर ध्यान देना चाहिए। अच्छा लिखें अपने लिए लिखें ,या दूसरों को फायदा पहुँचाने के लिए लिखें ,फिर देखें कमेंट्स खुद बा खुद आने शुरू हो जायेंगे। यहाँ एक बात ये भी ख्याल रहे की किसी की पोस्ट्स पर कमेंट्स ज्यादा आना इस बात की हरगिज़ दलील नही है की वो कमेंट्स पाने के लिए लिखते हैं। ये भी हो सकता है की लोग उसके कलम को काफी दिलचस्पी से पढ़ते हों। या वो खुद भी दुसरे ब्लोग्स पर पहुँच कर उनके हौंसले बढाता हो ,इसलिए लोग भी उनकी पोस्ट्स पर पहुँचते हों। जो लोग कमेंट्स के लिए नही लिखते अक्सर उनके ब्लोग्स पर लोग कमेंट्स करना पसंद करते हैं। क्यूँ की इंसान जिस चीज़ के पीछे भागता है वो उसे कम ही मिलती है। और कई लोगों की लेखनी भी जादू होती है ,लोग पढ़ते चले जाते हैं और कमेंट्स करते ही चले जाते हैं। और उनकी हर हर पोस्ट्स पर खुद ही पहुँच जाते हैं। ना उन्हें लिंक बांटने की जरुरत पड़ती है और ना ही निमन्त्रण भेजने की। इसमें हर एक का अपना कद होता है। इसलिए हमेशां अच्छा लिखें। और नियमित लिखें ,आपके पाठक हमेशां आपसे जुड़े रहेंगे। चाहे आप रचना लिखें या तकनीक। हर तरह की लेखनी दिलों को छूने वाली होगी तो लोग दिलचस्पी से पढेंगे। 

10. नकारात्मक टिप्पणियां बर्दाश्त करने का हौंसला।
ये तो बहुत ही कम लोगों में होता है। जब हम अपनी तारीफ़ और वाह वाही पर खुश हो सकते हैं ,तो हमे आलोचना का बुरा भी नही मानना चाहिए। सकारात्मक कमेंट्स में हमारी सही मायनो में समीक्षा नही हो पाती। हर नकारात्मक कमेंट्स कुछ ना कुछ सीखा जाते हैं। ताकि हम आइन्दा ख्याल रख सकें। अगर कोई गलती हो तो उसे स्वीकार करने वाला बड़े दिल वाला होता है। और अगर गलती ना हो तो किसी की गलत फहमी को मोहब्बत से दूर करने की कोशिश करनी चाहिए। क्यूँ की कीचड़ पानी से ही साफ़ होता है कीचड़ से नही। वैसे तो नकारात्मक कमेंट्स करने से भी बचना ही चाहिए। क्यूँ की किसी का दिल जीत नही सकते तो दुखाएं क्यूँ। लेकिन अगर ऐसा मौका आ भी जाये तो सब्र करना चाहिए। धीरज रखना चाहिए। ना की बिफर पड़ना चाहिए। जब हम तारीफ़ करने वालों को इनाम नही दे सकते तो आलोचना करने वालों को गालियाँ क्यूँ दें। 

11. पाठकों के पसंद की पोस्ट्स करना। 
हर ब्लोगर में ये सलाहियत जरुर होनी चाहिए की उसे अपने पाठकों की पसंद ना पसंद का अंदाज़ा हो। पोस्ट्स ऐसी ही करनी चाहिए जिसमे लोगों की दिलचस्पी बनी रहे। और कई ब्लोगर्स पाठकों की फरमाइश पर कोई ध्यान नही देते। कभी कभी पाठकों की फरमाइश पर भी पोस्ट्स करनी चाहिए। इससे उनके दिलों में काफी ख़ुशी होगी। बल्कि बेहतर यही है की अक्सर पाठकों की फरमाइश का ख़ास ख्याल रखा जाये। इसे ब्लॉग जगत में काफी इग्नोर किया जाता है। जो की दुर्भाग्य पूर्ण है। ख़ास कर तकनिकी ब्लोग्स में तो ज्यादा से ज्यादा पोस्ट्स ही पाठकों की जरुरत की करनी चाहिए। हो सकता हो की वही पोस्ट आपकी सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली पोस्ट बन जाये। पाठकों की पसंद और फरमाइश पर पोस्ट्स करने वालों को पाठक काफी तरजीह देते हैं। और उनके ब्लोग्स पर आना उनकी पोस्ट्स को दिलचस्पी से पढना पसंद करते हैं। और ऐसे ब्लोगर्स से लोग जुड़ना पसंद करते हैं, जो उनकी प्रोब्लम्स का हल निकाले। या उनकी जरुरत की बात उन्हें सिखाये। पाठकों की पसंद अपनी पसंद होनी चाहिए।

12. ज्यादा ब्लोग्स बनाना और नाकाम होना। 
कई ब्लोगर्स कई कई ब्लोग्स बना बैठते हैं ,जिसका नतीजा ये निकलता है की वो खुद भी इतने ब्लोग्स को संभाल नही पाते। अगर कोई अपने अन्दर ये सलाहियत पाता है की सभी ब्लोग्स को सहज चला सकेगा उसे ही एक से ज्यादा ब्लोग्स बनाने चाहिए। ज्यादातर होता ये है की कई बार लोग कई कई ब्लॉग तो बना लेते हैं लेकिन कुछ समय बाद किसी एक ब्लॉग के होकर रह जाते हैं। और दुसरे ब्लोग्स वीरान होकर रह जाते हैं। बेहतर ये है की एक ही ब्लॉग बनाएं और पूरी तवज्जोह उसी पर लगायें। बेशक उसमे अलग अलग कोलोम बनाकर अलग अलग विषय की पोस्ट्स करते रहें। इससे वो ब्लॉग नियमित चलता रहेगा। और पाठक भी उससे जुड़े रहेंगे। मेरे खुद 3 ब्लोग्स हैं , लेकिन मै सभी के लिए समय निकाल लेता हूँ। और हर तरह के विषय पर लिख भी लेता हूँ। इसलिए अभी तक तीनो में से कोई वीरान नही है। फिर भी मास्टर्स टैक पर ज्यादा पोस्ट्स मेरी तकनिकी दिलचस्पी की वजह से होती है। और मोहब्बत नामा मेरा शौक। और ''इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड '' ब्लोगर्स को समर्पित एक सामूहिक ब्लॉग। जिससे कई लोग फायदा उठा रहे हैं। 

13. नए ब्लोगर्स की मदद करना। 
हमारे हिंदी ब्लॉग जगत के तकनिकी ब्लोग्स को पढ़ पढ़ कर कई नए लोग भी ब्लोगिंग का शौक लिए ब्लॉग बना लेते हैं। लेकिन बेचारों को ब्लोगिंग सम्बंधित मदद नही मिल पाती। ये बे यारो मददगार ब्लॉग जगत में भटकते रहते हैं की शायद इनकी कोई मदद करे। कोई इनके ब्लॉग पर गेजेट्स ही लगाकर दे दे। जब ये दुसरे ब्लोगर्स से मदद मांगते हैं तो वहां से भी इन्हें इनकार ही मिलता है। इन नए नए ब्लोगर्स की मदद के लिए आगे आना चाहिए। समय पर काम आने वाले हमेशां याद रहते हैं। अगर आप तकनिकी ब्लोगर्स नही भी हैं तब भी अगर आपको ब्लॉग का थोडा बहुत ज्ञान है तब भी इनकी मदद तो कर ही सकते हैं। 

इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड की शुरुआत का एक ख़ास मकसद नए ब्लोगर्स की मदद करना, उन्हें ब्लोगिंग के बारे में बताना ,और ब्लोगिंग से सम्बन्धी जानकारियां शेयर करना रहा है। इस मंच से अब तक कई ब्लोगर्स की मदद की भी जा चुकी है ,और आइन्दा भी इनके लिए समय निकाला जायेगा। ये याद रखें की हम अगर किसी की मदद ना भी करेंगे तब भी किसी का काम हमारे बगैर नही रुकेगा। कोई ना कोई उनकी मदद करने वाला उनको मिल ही जायेगा। लेकिन हमारा इनकार या इग्नोर करना उन्हें हमेशां याद रहेगा। 

प्यारे ब्लोगर्स साथियों ,
ये लेख शुरू से आखिर तक ब्लॉग जगत में पाई जाने वाली कुछ खराबियों को दूर करने , और छोटी छोटी बातों की तरफ तवज्जोह दिलाने के लिए लिखा है। इस लेख के जरिये किसी को भी निशाना नही बनाया गया। और ना ही किसी एक को ध्यान में रखकर लिखा गया है। ये तो सिर्फ और सिर्फ ब्लोगर्स के फायदे और ब्लोगिंग के माहौल को बेहतर बनाने के लिए लिखा गया है। इसलिए कोई भी किसी बात का बुरा ना माने। मै हिंदी ब्लॉग जगत के ब्लोगर्स की बहुत इज्जत करता हूँ। लिहाज़ा किसी का दिल दुखाने के बारे में सोचना भी मेरे लिए पाप है। अगर लेख में मौजूद कोई खराबी हम में से किसी में पाई भी जाये तो उसमे सुधार का प्रयास करना चाहिए। ताकि भविष्य में इन छोटी छोटी बातों पर हमारी तवज्जोह रहे। और हम हिंदी ब्लॉग जगत में हकीकत में अपना योगदान दे सकें।

 इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड मंच उन सभी ब्लोगर्स के लिए है जो ब्लोगिंग के बारे में छोटी से बड़ी बातें सीखने के इच्छुक हैं। और अपनी ब्लोगिंग को बेहतर बनाने के ख्वाहिश मंद हैं। इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड में ज्यादातर पोस्ट्स ही ब्लोगिंग सम्बन्धी की जाती हैं। ताकि नए पुराने लोग सीखें। और फायदा उठायें। मुमकिन है की कई बातें खुद लेखक में भी पायी जाएँ। तो उसे भी उनमे सुधार करना चाहिए। और मै भी इसके लिए कोशिश करूँगा, की दिल से लिखूं और कुछ अच्छा भी लिख सकूं।

हम भारतीय दिल की सुनते हैं और दिल से लिखते हैं। हमारा दिल इतना कमजोर नही की अपनी गलतियाँ बर्दाश्त ना कर सके। फिर भी अगर मेरे किसी भी लेख से किसी का दिल दुःख गया हो तो मै माफ़ी का तलबगार हूँ। अगर आपको ये लेख पसंद आये तो ही कमेंट्स करना ,और दिल से कमेंट्स करना ,वर्ना कोई जरुरी नही। 

                                             आपका ''आमिर अली दुबई'' 
Previous
Next Post »

2 comments

Click here for comments
31 December 2012 at 21:45 ×

सबसे पहले आपको नववर्ष की शुभकामनाये,
भाई उम्दा जानकारी प्रदान की है आपने,
क्या मैं ये पोस्ट अपन ब्लॉग में लिंक कर सकता हूँ...

Reply
avatar
Aamir Dubai
admin
31 December 2012 at 22:20 ×

हाँ क्यूँ नही।

Reply
avatar

आपको आज की पोस्ट कैसी लगी ? अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई तो ही कमेंट्स करें ,वर्ना कोई जरुरी नही। वर्ना पढ़कर चले जाएँ ,मेरे लिए आपका दिलचस्पी से पढना कमेंट्स से बढ़कर सम्मान है। अगर आपको मास्टर्स टैक टिप्स की कोशिशें पसंद आयीं ,तो आप भी इसे आज ही ज्वाइन कर लें.कमेंट्स पाने के लिए कोई भी सज्जन यहाँ कमेंट्स ना करें। और ना ही कोई निमन्त्रण भेजें। ConversionConversion EmoticonEmoticon