Loading...

Do You Like Masters Tach Blog ?

डियर रीडर्स ,आपको पोस्ट का टाइटल पढ़कर हैरानी तो होगी ,लेकिन यहाँ आज इसका जिक्र करना कुछ जरुरी महसूस हुआ। 
आये दिन इस तरह के ईमेल और कमेंट्स तो मिलते ही रहते हैं की हम मास्टर्स टैक के बड़े फेन हैं ,हमारी पसंदीदा ब्लॉग यही है ,हम इसके नियमित पाठक हैं ,वगैरा वगैरा। लेकिन जब मै कभी कभी मास्टर्स टैक के फोलोवर्स यानि चाहने वालों की लिस्ट को देखता हूँ ,तो इनके दावों में सच्चाई नज़र नही आती। वो इसलिए की मास्टर्स टैक के चाहने वालों की लिस्ट में इनका नाम कहीं नही है जो की खुद को इसका नियमित पाठक या बड़ा फेन बता रहे हैं। इस लिस्ट में नाम लिखवाना खुद इनके ही हाथ में होता है ,वो ऐसे की ज्वाइन करके ये उस लिस्ट में खुद बा खुद शामिल हो सकते थे ,लेकिन पता नही की ये मुझे खुश करने के लिए लिखते हैं या वाकई ये इन कोशिशों को सलाम करते हैं। 

एक बात जो मै कई आर्टिकल्स में पहले भी अर्ज कर चूका हूँ की मै कमेंट्स या टिपण्णी के लिए नही लिखता। और ना ही टिप्पणियों के आदान प्रदान निति से सहमत हूँ। मै सिर्फ एक ही उसूल जानता हूँ की अगर लेखक के लिखे को पढ़कर ख़ुशी हासिल हो ,या वाकई आकर्षित हों तो ही कमेंट्स करने चाहिए,वर्ना झूठी तारीफों में क्या रखा है।

अगर हम किसी चीज को पसंद करते हैं तो हमे उसका हिस्सा बनने में गर्व होना चाहिए ,इसी तरह अगर आप मास्टर्स टैक ब्लॉग को पसंद करते हैं ,या इसके नियमित पाठक हैं ,या चाहने वाले हैं तो आपको इसे ज्वाइन करना चाहिए ताकि आप इसका हिस्सा बन सकें। और इसके चाहने वालों में आपका नाम भी शामिल हो। रोजाना गूगल प्लस की तो एक ना एक फ्रेंड रिक्वेस्ट मिलती रहती है। लेकिन ब्लॉग के फोलोवर्स की तादात को देखकर दुःख जरुर होता है। 

मास्टर्स टैक मेरा शौक है ,ना की प्रोफेशनल। ये एक तरह से मेरा स्टोर भी है ,जब भी मुझे किसी चीज के बारे में जानकारी मिलती है तो मै इसे सहेजने के लिए मास्टर्स टैक पर पोस्ट कर देता हूँ। ताकि जरुरत पड़ने पर मेरे भी काम आ सके ,और दूसरों के भी काम आ सके। तकनीक में मुझे शुरू से ही दिलचस्पी रही है। पहले मै नयी नयी जानकारियों को सेव करके अपने पास रखता था ,या प्रिंट निकालकर अपने पास रखता ,जब भी कभी जरुरत पड़ती ,उसमे से अपने काम की चीज निकाल लेता था। एक बार अगर एक चीज मै सहेज लेता था तो मुझे याद रहती थी की कंप्यूटर की इस प्रोब्लम का हल मैंने कहीं पढ़ा था ,फिर उसे तलाश करके अपना काम निकाल लेता। फिर ये ब्लॉग वजूद में आया ,अब हर जानकारी इसी पर पोस्ट करके सहेज लेता हूँ। 
इस ब्लॉग को शुरू करके सभी जानकारियों को यहाँ पोस्ट करने का मकसद लोगों के काम आना ही है। ताकि अपने साथ साथ दूसरों का भी भला हो। 

अब अगर मै इसमें टिपण्णी या कमेंट्स की लीला में पड़ता तो मै कभी इसे अपडेट्स नही रख पाता ,और जल्द ही मायूस हो जाता। क्यूँ की जो लोग कमेंट्स या टिपण्णी के लिए लिखते हैं अक्सर वो मायूस हो जाते हैं। और जो अपने शौक के लिए और दूसरों के लिए लिखते हैं वो आगे बढ़ते रहते हैं। यही वजह है की आज मास्टर्स टैक एक डेली अपडेट्स ब्लॉग है। जिसमे रोजाना कोई न कोई पोस्ट्स आती ही रहती है। 

दुबई में जॉब के दौरान मुझे जब भी फुर्सत मिलती है तो मै कुछ न कुछ तकनिकी जानकारियां हासिल करने में अपना समय गुजारता हूँ ,ताकि इस तरह मेरा ज्ञान बढ़ सके ,और भारतीय होने के नाते इसे मिल बाँट कर खाने पर यकीन रखता हूँ ,इसलिए इसे दूसरों तक भी पहुंचा देता हूँ। इसलिए मुझे सिर्फ आपका समर्थन ही चाहिए ताकि मुझे ये पता चल सके की जो कुछ मै पोस्ट्स कर रहा हूँ उसे पसंद करने वाले भी हैं। वर्ना तो शायद किसी दिन मै भी मायूस होकर बैठ जाऊं ,की मै डेली पोस्ट्स कर रहा हूँ इसके बावजूद भी ब्लॉग के चाहने वालों में कोई इजाफा नही होता। बेशक समर्थन का एक जरिया कमेंट्स भी हैं ,इससे लेखक को उर्जा तो मिलती है ,लेकिन अगर वो सिर्फ कमेंट्स के लिए ही लिखने लग जाये तो मायूसी भी उसे फ्री में मिल जाती है। इसलिए मै सिर्फ शौक के लिए प्लस दूसरों के काम आने के लिए लिखता हूँ। ऐसे में जो चाहने वाले हैं और समर्थक हैं उन्हें कम से कम ब्लॉग ज्वाइन तो जरुर करनी चाहिए। अगर आपको ये कोशिशें पसंद नही है तो मुझे आपसे कोई गिला या शिकवा भी नही है ,शिकवा तो उनसे जरुर है जो नियमित पाठक ,या बिग फेन हैं ,और संतुष्ट भी हैं ,पसंद भी करते हैं ,और ईमेल द्वारा सराहना भी कर देते हैं लेकिन मास्टर्स टैक के चाहने वालों में अपना नाम लिखवाने में अभी भी पीछे हैं। 

मुझे उम्मीद है की मै इन चंद अल्फाज में अपनी बात रखने में कामियाब रहा। अगर आप वाकई मास्टर्स टैक को पसंद करते हैं तो आप इसके समर्थक जरुर बनिये। 

                                                    आपका ''आमिर अली दुबई ,,
मास्टर्स टैक 7635492579734674110

Post a Comment

  1. आमिर जी,दूसरों को प्रेरित करने शख्स अगर खुद मायूस हो जाए इससे खराब बात कोई हो नहीं सकती,आप अपना लेखन जारी रखें आप बेहद उम्दा जानकारी देते हैं अपने ब्लॉग पर किसी ना किसी रूप में यह सबके काम आती है।

    ReplyDelete
  2. आमिर जी सकारात्‍मक रहिये और इसी तरह लिखते रहिये
    शुभकामाओं सहित

    ReplyDelete
  3. आप बहुत अच्छा काम कर रहे हैं आमिर .... आपको कामयाबी ज़रूर मिलेगी ...

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सकारात्मक आलेख है आमिर भाई,मैं भी ज्ञान को बाटने में विश्वास रखता हूँ.मैंने भी गौर किया है ज्ञान और स्वास्थ्य से सम्बन्धित कितना भी उपयोगी ब्लॉग क्यों न हो अन्य ब्लोगों से कम ही लोकप्रिय हो पता है.लगे रहें,सब ब्लोगिंग की माया है.

    ReplyDelete
  5. मैं आपकी बात से सहमत हूँ
    आप हमारी काफी हेल्प करते आ रहे है
    आप लिखते रहे
    अमर

    ReplyDelete
  6. मैं चाहता हूँ की आपके साथ मैं भी इस साईट पर काम करूँ ......अगर ऐसा हो सकता है तो कृपया हमे भी अपने इस साईट का हिस्सा बनायें ...मैं सदेव आपके सहयोग में खरा उतुरुंगा /

    ReplyDelete
  7. Ek insan sabki bhalae ke liye karya karta bahut aachi bat hain.
    Hamare jese taknik ke bare me kam janne wale bar-bar aap jese blog par aate rahte jinki sankhaya sayad hajaro me hogi

    ReplyDelete
  8. Ek insan sabki bhalae ke liye karya karta bahut aachi bat hain.
    Hamare jese taknik ke bare me kam janne wale bar-bar aap jese blog par aate rahte jinki sankhaya sayad hajaro me hogi

    ReplyDelete
  9. Ek insan sabki bhalae ke liye karya karta bahut aachi bat hain.
    Hamare jese taknik ke bare me kam janne wale bar-bar aap jese blog par aate rahte jinki sankhaya sayad hajaro me hogi

    ReplyDelete

आपको आज की पोस्ट कैसी लगी ? अगर आपको ये पोस्ट पसंद आई तो ही कमेंट्स करें ,वर्ना कोई जरुरी नही। वर्ना पढ़कर चले जाएँ ,मेरे लिए आपका दिलचस्पी से पढना कमेंट्स से बढ़कर सम्मान है। अगर आपको मास्टर्स टैक टिप्स की कोशिशें पसंद आयीं ,तो आप भी इसे आज ही ज्वाइन कर लें.कमेंट्स पाने के लिए कोई भी सज्जन यहाँ कमेंट्स ना करें। और ना ही कोई निमन्त्रण भेजें।

emo-but-icon

Home item

ADS

Search Post

Website Only 5000

Website Only 5000
Start Your Own Site

Subscribe Channel

Like On Facebook